ब्लॉग आर्काइव

डा श्याम गुप्त का ब्लोग...

मेरी फ़ोटो
Lucknow, UP, India
एक चिकित्सक, शल्य-चिकित्सक जो हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान व उसकी संस्कृति-सभ्यता के पुनुरुत्थान व समुत्थान को समर्पित है व हिन्दी एवम हिन्दी साहित्य की शुद्धता, सरलता, जन-सम्प्रेषणीयता के साथ कविता को जन-जन के निकट व जन को कविता के निकट लाने को ध्येयबद्ध है क्योंकि साहित्य ही व्यक्ति, समाज, देश राष्ट्र को तथा मानवता को सही राह दिखाने में समर्थ है, आज विश्व के समस्त द्वन्द्वों का मूल कारण मनुष्य का साहित्य से दूर होजाना ही है.... मेरी दस पुस्तकें प्रकाशित हैं... काव्य-दूत,काव्य-मुक्तामृत,;काव्य-निर्झरिणी, सृष्टि ( on creation of earth, life and god),प्रेम-महाकाव्य ,on various forms of love as whole. शूर्पणखा काव्य उपन्यास, इन्द्रधनुष उपन्यास एवं अगीत साहित्य दर्पण (-अगीत विधा का छंद-विधान ), ब्रज बांसुरी ( ब्रज भाषा काव्य संग्रह), कुछ शायरी की बात होजाए ( ग़ज़ल, नज़्म, कतए , रुबाई, शेर का संग्रह) my blogs-- 1.the world of my thoughts श्याम स्मृति... 2.drsbg.wordpres.com, 3.साहित्य श्याम 4.विजानाति-विजानाति-विज्ञान ५ हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान ६ अगीतायन ७ छिद्रान्वेषी

शुक्रवार, 24 अप्रैल 2009

प्रेम पाती मिली

प्रेम पाती मिली ,मन कमल खिल गया ,
हम को ऐसा लगा सब जहाँ मिल गया

चाँद -तारे धरा पर उतरने लगे ,
पुष्प कलियों से हिलमिल कर इठ्लाराहे।
देके आवाज़ गुपचुप बुलाते मुझे ,
कोई प्यारा मधुर बागवाँ मिल गया।

अक्षर -अक्षर मैं तेरी महक चंदनी
शब्द मानों तेरे ही चंचल नयन ।
भाव ह्रदय के मन की पहेली से हैं ,
छंद रस प्रीति पायल की छनछन बने ।
पढ़के ऐसा लगा प्रेम सरिता का मन ,
तोड़ तटबंध निर्झर बना बह गया।

ख़त तुम्हारा मिला ,मन कमल खिल गया ,
पढ़ के ऐसा लगा सब जहाँ मिल गया॥
-डॉ श्याम गुप्त ।




शाश्वत धर्म , सामयिक धर्म ,मतदाता धर्म

मृदुला सिन्हा -लिखतीं हैं कि मतदाता धर्म निभाना चाहिए। यदि सामयिक धर्म , शाश्वत धर्म के आड़ेआता हो तो ? शाश्वत धर्म निभाना चाहिए , यदि आप सोचते हैं कि सभी प्रत्याशी ग़लत हैं तो वोट मत दीजिये क्योंकि यही तो आपका मत (वोट)है । आपने शाश्वत धर्म निभाया।
सत्य, न्याय , मानवता ,राष्ट्रीयता आपके शाश्वत धर्म हैं । यदि हिम्मत है तो इन के विरुद्ध कर्मों पर चिल्लाइये , लड़िये - नहीं तो चुप तो रह ही सकते हैं । इन के विरुद्ध किसी से भी लड़ा जा सकता है। --- तुलसी ने कहा-
---हरिहर निंदा सुनहि जो काना ,होई पाप गौ घात समाना ।
-- काटिय जीभ जो बूत बसाई, कान मूँद नतु चलिय पराई।।

एवं--
--तज्यो पिता - प्रहलाद , विभीषण -बन्धु भरत-महतारी,
---बलि गुरु तज्यो कंत बृज -बनितन भये मुद मंगल कारी ।

झंडे और चुनाव आचार संहिता

ये कौन सी आचार संहिता है, झंडे व बैनरों के लगाने पर ,--आचार संहिता प्रत्याशी व दलों पर है या मतदाता पर । मतदाता , जनता का मौलिक अधिकार है की वह चाहे झंडे लगाए या न लगाए या चार लगाए या दश , इसमें क्या हानि व लाभ है?---