ब्लॉग आर्काइव

डा श्याम गुप्त का ब्लोग...

मेरी फ़ोटो
Lucknow, UP, India
एक चिकित्सक, शल्य-चिकित्सक जो हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान व उसकी संस्कृति-सभ्यता के पुनुरुत्थान व समुत्थान को समर्पित है व हिन्दी एवम हिन्दी साहित्य की शुद्धता, सरलता, जन-सम्प्रेषणीयता के साथ कविता को जन-जन के निकट व जन को कविता के निकट लाने को ध्येयबद्ध है क्योंकि साहित्य ही व्यक्ति, समाज, देश राष्ट्र को तथा मानवता को सही राह दिखाने में समर्थ है, आज विश्व के समस्त द्वन्द्वों का मूल कारण मनुष्य का साहित्य से दूर होजाना ही है.... मेरी दस पुस्तकें प्रकाशित हैं... काव्य-दूत,काव्य-मुक्तामृत,;काव्य-निर्झरिणी, सृष्टि ( on creation of earth, life and god),प्रेम-महाकाव्य ,on various forms of love as whole. शूर्पणखा काव्य उपन्यास, इन्द्रधनुष उपन्यास एवं अगीत साहित्य दर्पण (-अगीत विधा का छंद-विधान ), ब्रज बांसुरी ( ब्रज भाषा काव्य संग्रह), कुछ शायरी की बात होजाए ( ग़ज़ल, नज़्म, कतए , रुबाई, शेर का संग्रह) my blogs-- 1.the world of my thoughts श्याम स्मृति... 2.drsbg.wordpres.com, 3.साहित्य श्याम 4.विजानाति-विजानाति-विज्ञान ५ हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान ६ अगीतायन ७ छिद्रान्वेषी

सोमवार, 7 फ़रवरी 2011

बासंतिक प्रश्नो्पनिषद--सखि कैसे...डा श्याम गुप्त....

                                                                 ....कर्म की बाती,ज्ञान का घृत हो,प्रीति के दीप जलाओ...
बासंतिक प्रश्नो्पनिषद--सखि कैसे...?
बसंत का पदार्पण होने को है , समस्त प्रकृति बसंतमय होती जारही है | बसंत -पंचमी ---यह ही वह दिवस है जब ....
---जब आदि-शक्ति  महा सरस्वती ने आदि स्वर देवी सरस्वती का रूप अवतरण करके ब्रह्मा के हृदयान्तर में प्रवेश किया और ब्रह्मा को पुरा-सृष्टि के सृजन का ज्ञान  हुआ ...
---जब ब्रह्मा सृष्टि सृजन करते करते थक गए एवं स्वयं को नर- नारी के रूप में विभक्त करके नारी सृष्टि का सृजन किया ...
---जब स्वतः स्वचालित मैथुनी-प्रज़नन की प्रक्रिया(automated sexual reproduction system )  के निश्चित क्रम संचालन हेतु स्वयंभू रूद्र ( भगवान शिव ) ने अर्धनारीश्वर-लिंग महेश्वर  रूप  प्रकट किया तथा शीला-अशीला , गौरी-श्यामा, रूपा-अरूपा , सौम्य-क्रूर, शांत-अशांत , राग-विराग ....आदि ११-११  भाव नारियां व भाव नर --भाव प्रकट हुए जो ब्रह्मा का मूल स्वयं भाव के नर-नारी  रूप (समस्त प्रकृति में --- मनुष्य में मनु-शतरूपा रूप ) में प्रविष्ट होकर प्रथम -काम स्फुरणा की उत्पत्ति हुई....
   "कर्पूर गौरं करुणावतारम संसार सारं, भुजगेन्द्र हारं,सदा बसंतम हृदयारविन्दे भवं भवानी सहितं नमामि ||"
----जब पुष्पधन्वा ने कामशर  से अपने स्वयं के उत्पत्तिकर्ता  भगवान शिव को काम पीड़ित करने के प्रयत्न में मानवीय/दैवीय शरीर खोया और भष्म होकर अनंग नाम पाया .....और वह नर-नारी के ह्रदय में व्याप्त रह सके...
----जब समस्त प्रकृति  रागमयी होकर बसंतमय होजाती है , हरी-पीली साड़ी पहन कर धरती इठलाने लगती है ,जड़-जंगम, जन- जन , नर-नारी ,प्राणी , पशु-पक्षी, भी राग भाव से उद्वेलित होने लगते हैं ; संसार अनंगमय , रसोद्रेक  से  परिपूरित , रस-श्रृंगार के गीत गाने लगता है----सुनिए डा श्याम गुप्त का एक---रस श्रृंगार सिक्त गीत....
---सखि कैसे ....
सखि री तेरी कटि छीन ,
पयोधर भार भला धरती हो कैसे ?
बोली सखी मुसुकाइ , हिये-
 उर भार तिहारो धरतीं हैं जैसे॥

भोंहें बनाई कमान भला , 
हैं तीर कहाँ पै ,निशाना हो कैसे ?
नैनन के तूरीण में बाण-
धरे उर ,पैनी कटार के जैसे॥

कौन यहाँ मृग-बाघ धरे , कहो-
बाणन वार शिकार हो कैसे ?
तुम्हरो हियो मृग भांति पिया,
जब मारै कुलांच,शिकार हो जैसे॥

प्रीति तेरी मनमीत प्रिया ,
उलझाए ये मन, उलझी लट,जैसे |
लट सुलझाय तौ तुम ही गए,
प्रिय मन उलझाय गए कहो कैसे ?

ओठ तेरे विम्बा फल भांति, 
किये रचि लाल , अंगार के जैसे |
नैन तेरे प्रिय प्रेमी चकोर ,
रखें मन जोरि अंगार से जैसे॥

अनहद नाद को गीत बजै,
संगीत प्रिया अंगडाई लिए से |
कंचन काया के ताल-मृदंग पै,
थाप तिहारी कलाई दिए ते॥

प्रीति भरे रस-बैन तेरे,कहो-
कोकिल कंठ भरे रस कैसे ?
प्रीति की बंसी तेरे उर की ,
पिय देती सुनाई मेरे उर में से॥

पंकज नाल सी बाहें प्रिया,
उर बीच धरे क्यों, अँखियाँ मीचे ?
मत्त-मतंग की नाल सी बाहें ,
भरें उर बीच रखें मन सींचे ||

                    चित्र--साभार