ब्लॉग आर्काइव

डा श्याम गुप्त का ब्लोग...

मेरी फ़ोटो
Lucknow, UP, India
एक चिकित्सक, शल्य-चिकित्सक जो हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान व उसकी संस्कृति-सभ्यता के पुनुरुत्थान व समुत्थान को समर्पित है व हिन्दी एवम हिन्दी साहित्य की शुद्धता, सरलता, जन-सम्प्रेषणीयता के साथ कविता को जन-जन के निकट व जन को कविता के निकट लाने को ध्येयबद्ध है क्योंकि साहित्य ही व्यक्ति, समाज, देश राष्ट्र को तथा मानवता को सही राह दिखाने में समर्थ है, आज विश्व के समस्त द्वन्द्वों का मूल कारण मनुष्य का साहित्य से दूर होजाना ही है.... मेरी दस पुस्तकें प्रकाशित हैं... काव्य-दूत,काव्य-मुक्तामृत,;काव्य-निर्झरिणी, सृष्टि ( on creation of earth, life and god),प्रेम-महाकाव्य ,on various forms of love as whole. शूर्पणखा काव्य उपन्यास, इन्द्रधनुष उपन्यास एवं अगीत साहित्य दर्पण (-अगीत विधा का छंद-विधान ), ब्रज बांसुरी ( ब्रज भाषा काव्य संग्रह), कुछ शायरी की बात होजाए ( ग़ज़ल, नज़्म, कतए , रुबाई, शेर का संग्रह) my blogs-- 1.the world of my thoughts श्याम स्मृति... 2.drsbg.wordpres.com, 3.साहित्य श्याम 4.विजानाति-विजानाति-विज्ञान ५ हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान ६ अगीतायन ७ छिद्रान्वेषी

मंगलवार, 17 मई 2011

जेठ की दोपहरी..क्रमश:... दो . ..डा श्याम गुप्त ...

                                                                                    ....कर्म की बाती,ज्ञान का घृत हो,प्रीति के दीप जलाओ.

टप टप  टप टप  अंग बहै स्वेद धार |
ज्यों उतरि गिरि-श्रृंग जल धार आई है |
बहै घाटी मध्य ,करि विविध प्रदेश पार,
धार सरिता की ज्यों सिन्धु में समाई है |
श्याम खुले केश ढीले-ढाले वस्त्र तिय देह ,
उमंगें   उरोज, उर  उमंग  उमंगाई  है |
ताप से तपे हैं तन, ताप तपे तन मन,
निरखि नैन नेह, नेह निर्झर समाई  है ||

चुप चुप चकित न चहक रहे खग वृन्द,
सारिका ने शुक से भी चौंच न लड़ाई है |
बाज औ कपोत बैठे एक ही तरु डाल,
मूषक बिडाल भूलि बैठे शत्रुताई  है |
नाग मोर एक ठांव , सिंह मृग एक छाँव ,
धरती मनहूँ तपोभूमि सी सुहाई है |
श्याम, गज-ग्राह मिलि बैठे सरिता के कूल,
जेठ की दुपहरी, साधु-भाव जग लाई है ||

हर  गली गाँव , हर नगर  मग  ठांव ,
जन-जन जल, शीतल पेय हैं पिलारहे |
कहीं मिष्ठान्न बटें , कहीं है ठंडाई घुटे ,
मीठे जल की भी कोऊ प्याऊ लगवा रहे |
राह रोकि हाथ जोरि, शीतल जल भेंट करि,
हर  तप्त  राही  को  ही ठंडक दिला रहे|
भुवन भाष्कर , धरि मार्तंड रूप ,श्याम,
उंच नीच भाव मनहुं मन के मिटा रहे ||




वैदिक साहित्य में ... सोम -२...वैज्ञानिक विवेचन...डा श्याम गुप्ता ....


                                                                    ....कर्म की बाती,ज्ञान का घृत हो,प्रीति के दीप जलाओ...     

            सोम  के बारे में  विभिन्न वर्णन सभी वेदों में है, ऋग्वेद के लगभग सभी मंडलों में यत्र-तत्र वर्णन है और
नवम मंडल तो पूर्णतया सोम को ही समर्पित है | सोम अर्थात सौम्यता | वस्तुतः सोम अंतरिक्ष से प्रवाहित एक एसा दिव्य प्रवाह है जो जड़ व जंगम( जीव, निर्जीव, प्राणी, वनस्पति, मनुष्य  ) सभी में सौम्यता पूर्ण  प्राण-प्रवाहित करता है | वस्तुतः सोम अन्तरिक्षीय ऊर्जा कण प्रवाह है (जो आज  एस्ट्रो -फिज़िक्स में -पृथ्वी पर विभिन्न ऊर्जा व सब एटोमिक पार्टिकल, इलेक्त्रोंस  के प्रवाह व उनके प्रभाव का विज्ञान है ) । इसी प्रकार " इन्द्र सोम पीतये" का अर्थ है कि संगठक शक्ति सौम्यतापूर्वक व्यवहार से ही चलती है.... .... ऋग्वेद व अन्य  में विभिन्न स्थानों पर सोम का जो विभिन्न वर्णन है वह यहाँ वर्णन किया जायगा |
१- चन्द्रमा के द्वारा प्रवाहित अन्तरिक्षीय प्रवाह  है -सोम----ऋ .९/१/९६९८ ...
     "तनूनपात पवमान: श्रंगे शिशानो अर्षति | अन्तरिक्षेण  राजत ||"   --- यह शरीर को न क्षीण होने देने वाला पवित्र  सोम , अंतरिक्ष के चमकने वाले उच्च भाग से क्षरित होता है |


२-अन्तरिक्षीय (बेसिक कोस्मिक इनर्जी --आयोनिक प्रवाह  )प्रवाह - मूल ऊर्जा व कण ---सोम ---ऋ ९/२२/७८७८-के अनुसार ---
         "एते पृष्ठानि रोदसो विर्प्रयंतो व्यानिशु: | उतेदमुत्तमम रज: ||  "    ---...यहं सोमरस स्वर्गलोक व पृथ्वीलोक के पृष्ठ भाग ( गुह्य व अंतिम भाग ) तक विविध प्रकार से गमन करता है और विस्तार पाता है , यह द्युलोक में भी प्राप्त होता है |
----अर्थात...अति सूक्ष्म कणों-आयन्स व एलेक्ट्रोन्स आदि- का यह प्रवाह( सोमरस वर्षण) सतत होता रहता है , जो अंतरिक्ष से पृथ्वी जैसे ठोस पिंडों के भी सहज़ता से पार होकर अन्दर तक --प्रत्येक स्थान पर--पहुंचता है |
           ऋ. ९/२३/७८८२--में कथन है---" अनुप्रत्नास आयव:पदं नवीयो अस्तु | सचे जन्नत सूर्यम ||"    ---अति पुरातन , शाश्वत...(सृष्टि के समय उत्पन्न ) , सतत आवागमन शील ( बनने -बिगड़ने वाला -निरंतर उत्पन्न व विनष्ट होने वाले पूर्व-परमाणु कण आदि ) सोम ...नए नए पद प्राप्त करते हैं (चरण, स्तर, स्थान, क्रियाएं --रासायनिक-भौतिक -विद्युतीय  परिवर्तन अदि )...वे ही प्रकाश के लिए सूर्य को उत्पन्न करते है | यह अन्तिरिक्षीय प्रवाह सोम नित्य नये नये स्वरूपों में प्रकट होता है व सूर्य व अन्य सभी ऊर्ज़ा -चक्रों को संचालित करता है ।
            ऋ. ९/६६/८२४०---के अनुसार --"ताम्याँ विश्वस्य राजसी ये पवमान धायनी | प्रतीची सोम तस्थतु : ||"   ---उन दो धामों ( द्युलोक व अंतरिक्ष ) में यह पवमान सोम रहता है | वहां से प्रकाशित होता है, विश्व को नियंत्रित करता है | वहां से भूमंडलीय क्षेत्र में प्रविष्ट होने पर यह सोम पश्चिम में स्थित होता है |    ----अर्थात....द्युलोक व अंतरिक्ष में पवित्र होकर ( संयोजित होकर...ओजोन लेयर से छनित होकर ) यह सोम विश्व को प्रकाशित करता है | वह पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र में प्रवेश करने पर पृथ्वी की भ्रमण-गति से अप्रभावित रहकर , सीधा न जाकर ..पश्चिम की ओर वाले स्थान को जाता है |---आधुनिक एस्ट्रोफिजिक्स के अनुसार ..एत्मोस्फीयर  से पृथ्वी पर कोस्मिक कण प्रवाह की वर्षा पृथ्वी की गति की दिशा के विपरीत होती है |


३-अन्तरिक्षीय छलनी  (ओजोन लेयर )--सोम -- ऋ. ९/२६/७९११---में वर्णित अनुसार---
      "एष सूर्येण हासते पवमानो अधि ध्यवि  | पवित्रे म्रिज्यते मद : ||"    -- सूर्यदेव द्वारा अंतरिक्ष की शोधक छलनी  में स्थापित यह सोम आनंद व प्रसन्नतादायी है |

४-पूर्व परमाणु कण ---सोम-- ऋ. ९/५६/८०७०.."यत्सोमो वाजमर्षति शतं धरा अपस्युत | इन्द्रस्य साख्यामाविशन ||"  --यज्ञ( क्रिया-रासायनिक प्रक्रियायें) की कामना करने वाली सेकड़ों सोम की धाराएं( परमाणु पूर्व कण प्रवाह ) जब इन्द्रदेव (सन्गठक, विघटक शक्ति ) से मित्रता भाव( रासायनिक सन्गठन प्रक्रिया -पूर्णता ) स्थापित कर लेती हैं तभी  हमें सोमरस से अन्न( समस्त पोषण -पदार्थ आदि प्राप्त होते हैं ) मिलता है ।


५- तीनों लोकों का पोषक-प्रभाव कारी - सोम ---रि.९/४२/९५५१-- का कथन है...
 " जनयन रोचना दिवो जनयान्न्प्सु सूर्यम । बसाना गा अपोहरि:॥ "   ---हरिताभ ( हरि रूप, प्रभु रूप) सोम, ध्यूलोक में नक्षत्रों को, अन्तरिक्ष में सूर्य को निर्माण करके...गौ ( प्रिथ्वी व किरणें) व जल (वायुमन्डल) को प्रभावित करता है। -----      एवम..
सामवेद -अ.१०/ख.१/२/१२७५-- के अनुसार यह  त्रित सोम --विश्व में तीन स्थानों-संस्थानों में निचोडा जारहा है ---
  "एतं त्रितस्य योषिणों हरि हरित्यन्द्रिभि :। इन्द्रमिन्द्राय पीतये ॥"  ---इन्द्र द्वारा प्रयोगार्थ ( सर्वजन,संगठन,समाज , विश्व के --मदाय =हरियाली,खुशहाली,प्रसन्नता, कल्याण के लिये लिये ) ; यह हरिताभ ( हरि रूप, प्रभु रूप, मूल तत्व ,हरा , ताजा, शुद्ध )  सोम तीन प्रकार  से --अन्तरिक्ष, प्रिथ्वी व शरीर तन्त्रों में निचोडा जारहा है...बन रहा है ।


६--सूक्ष्म बुद्धि द्वारा संस्कारित सोम....रिग.९/२६/७९०१--
      "तम म्रक्षंति वाजिन मुपस्थे अदितेरधि । विप्रासो अण्व्या धिया ॥"  ----विद्वान (विग्य जन , वैग्यानिक, ग्यानी) सूक्ष्म बुद्धि से(  सूक्ष्म ग्यन...अणु ग्यान से ) उस बलशाली सोम को अदिति की गोद ( अखन्ड प्रक्रिति, आदि-शक्ति या यग्य क्षेत्र में स्थित )  स्थित सोम( उत्तम प्रक्रिति प्रवाहों को ) को उत्तम विधि से पवित्र(संसार के कल्याणार्थ व्रद्धि करते हैं)  बनाते हैं।  


७- सुसंस्कारित मन ही सोम....   रिग.९//३३/७९४८.....
      " राय: समुद्रान्श्च तुरोs स्मम्यं सोम विश्वत । आ पवस्व सहस्रिणा ॥"   ----हे सोम ! आप सभी  माध्यमों से एश्वर्य के समुद्र हो----तीनों लोक व प्राण;  सुसन्स्कारित् मन..  अन्त:करण चतुष्टय के व्यवहारिक सुसंस्कार-द्वारा --चारों पुरुषार्थ -धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष --हमारे लिये उपलब्ध कराते हो---आप हज़ारों प्रकार, भावों, दिशाओं से प्रवाहित हों ।


८--आकश से वर्षा के साथ सोम....रिग..९/२०/९६८८....के अनुसार.....
."परिष्क्रण्वन्न निष्क्रतं जनाय यातमन्निथ । व्रष्टि दिव: परिस्रव ॥"   ---हे सोम !  संस्कार रहित क्षेत्र को संस्का्रवान बनाते हुए मानव मात्र के लिये अन्न आदि उत्पन्न करने के लिये आकाश से वर्षा के साथ प्रवाहित हों ।  प्राण -पर्जन्य के रूप में अनुग्रह व जल के साथ प्रप्त हों ।


९--भूमि स्थित जल को प्राप्त सोम...  रिग.९/३३/९९०२--में मन्त्रकार  कहता है ...
  "अयं स यो दिवस्परि रघुयाना पवित्र आ । सिन्धो सर्या सिच्येते मधु: ॥"   ---आकाश मे तीब्र गति से विचरण करने वाला, पवित्र किया जाता सोमरस सागर ( समस्त जलाशयों,जल स्रोतों, भूगर्भ स्थित जलों आदि) को प्राप्त होता है ॥


१०-- इन्द्र द्वारा सोम पान ---रिग ९/६१/८०९०--में मन्त्रकार का कथन है...
 "पुर स ध इत्थाधिये दिवोदासं शम्बरं । अघ तां तुर्वशं यदुम ॥"   ---सोम पीकर इन्द्र  ने यग्य करने वाले दिवोदास ( दिव्य गुण युक्त व्यक्तियों ) के लिये शम्बरासुर (अकल्याण कारक शक्तियों ), तुर्वश ( क्रोधी-द्रो्ही) व यदु (नियन्त्रण विहीन शक्तियों ) को मारा,...  मारते हैं ।    ---अर्थात ---कल्याण कारी भावों ( सोम ) को ह्रदय में स्थान देकर ही इन्द्रियनिग्रही लोग ( इन्द्र ) दिव्यगुण युक्त जनता के लिये अकल्याणक, क्रोधी व मर्यादाविहीन लोगों को नष्ट करते हैं ...करसकते हैं।


११-- अन्तरिक्षीय सोम की प्रदूषण से मुक्ति...  सामवेद ७/४/२/१०७१-- में मन्त्रकार का स्पष्ट मत है ---
  "तं त्वा वचोविद: परिष्क्रण्वान्ते घर्णसिम । सं त्वा म्रजन्त्यायव ॥"   ---- हे अखिल विश्व के धारक सोम ! वाणी के विशेषग्य विद्वान अपनी स्तुतियों से आपको परिष्क्रत करते हैं।वे आपको इस प्रकार पवित्र कर रहे हैं।    ---अर्थात... प्रार्थना, स्तुतियों, मन्त्रोच्चारों, श्लोकोच्चारों, मन्दिरों के घन्टानादों,शन्खनादों  के कर्णप्रिय नाद व प्रिय ध्वनियों से वातावरण की शुद्धता के साथ साथ स्वयं सोम (अन्तरिक्षीय आयोनिक प्रवाह) परिष्क्रत होता है व प्रदूषण   कम होता है।

१२-एटोमिक एक्टीविटी  का जनक सोम.... ऋग्वेद ९/७३/८३४९----में वर्णित है---
  "स्रक्वे द्रप्सस्य धमत: समस्वर न्न्रितस्य योना  ससरांत माभय :|
    त्रीन्त्सु मूर्ध्नो असुरश्चक्र आरभे सत्यास्थ नाव : सुकृतं पीपरन ||"       ---यह सोम धारक स्थल (विश्व-घट= यज्ञ ) में ऋत ( यज्ञ=सनातन सत्य= ब्रह्म ) के उत्पत्ति स्थल से शब्द करते हुए प्रकट होता है | वे बलशाली ( सोम ) नाभि ( यज्ञकुंड= परमाणु के नाभिक -न्यूक्लियस -) में संयुक्त होकर , तीनों उच्चपदस्थ बलशाली ( इलेक्त्रों, न्यूट्रान, प्रोटोन = सत तम रज )-असुरस्चक्र (विश्वचक्र=एटम का वलय =रिंग्स - ) से कार्य प्रारम्भ करते हैं | सत्य की नाव ( वास्तविक व्यवहारिक क्रिया=गुणधर्म =एक्टीविटी ) में( के रूप में ) प्रकट होकर क्रियाओं में सहायक होते हैं |

१३-रोगों की  प्रतिराधक क्षमता ( इम्म्यूनिटी ) -सोम -"-त्वं सोम तनूक्रंदायो दवेषोभ्यो s न्यूक्रतेभ्य: | उरु यातान्ति वरूथं ||".. ऋ. ८/७९/७३८४..... हे सोम! आप शरीर को कमजोर करने वाले रोग-रूपी रिपुओं से सुरक्षा के लिए श्रेष्ठ कवच के सामान हैं |

१४-सोम = अमृत ---" त्वा देवासो अमृताय कण पम्पु |" ...ऋ.९/१०६/८६९४----देवगण अमृत प्राप्ति के लिए सोमरस पीते हैं | ---जो आत्मानंद, परमानंद, ज्ञानानंद देता था |

१५- सोमरस--  एक प्रकार की वल्ली (सोमलता ) को निचोड़कर, कूटकर निकाला हुआ रस होता था , जो पत्थरों से जमीन पर या ऊखल में कूट कर निकाला जाता था| इस  सोमलता  की उत्पत्ति का पार्थिव स्थान मूजवन्त पर्वत गांधार काम्बोज  प्रदेश , अफगानिस्तान है ' यह गहरे बादामे- हरे रंग का पौधा होता है जिससे भूरे-हरे रंग का रस --सोमरस निकलता है | यह शक्तिवर्धक, प्रसन्न चित्त करने वाला , आनंददायक रस दूध, दही, मधु में मिलालर या सत्तू में मिला कर पीया जाता था | 

१६- सोम यज्ञ  या सोम याग --  :इंदु पविष्ट चेतन: प्रिय: कवीनां मती | स्रजदस्व रथीरिवं ||" -ऋ,९/६४/८१८८....
   ---चेतनायुक्त प्रवाह -सोम- को दूरदर्शी, व सूक्ष्मदर्शी बुद्धि नियंत्रित करती है | ब्राह्मी चेतना ही उसे जीव जगत की और प्रेरित करती है | मन्त्र व संकल्प शक्ति से उसे प्रकृति व शरीर के बांछित प्रयोग के लिए नियंत्रित किया जा सकता है |----यही सोम यज्ञ है ||