ब्लॉग आर्काइव

डा श्याम गुप्त का ब्लोग...

मेरी फ़ोटो
Lucknow, UP, India
एक चिकित्सक, शल्य-चिकित्सक जो हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान व उसकी संस्कृति-सभ्यता के पुनुरुत्थान व समुत्थान को समर्पित है व हिन्दी एवम हिन्दी साहित्य की शुद्धता, सरलता, जन-सम्प्रेषणीयता के साथ कविता को जन-जन के निकट व जन को कविता के निकट लाने को ध्येयबद्ध है क्योंकि साहित्य ही व्यक्ति, समाज, देश राष्ट्र को तथा मानवता को सही राह दिखाने में समर्थ है, आज विश्व के समस्त द्वन्द्वों का मूल कारण मनुष्य का साहित्य से दूर होजाना ही है.... मेरी दस पुस्तकें प्रकाशित हैं... काव्य-दूत,काव्य-मुक्तामृत,;काव्य-निर्झरिणी, सृष्टि ( on creation of earth, life and god),प्रेम-महाकाव्य ,on various forms of love as whole. शूर्पणखा काव्य उपन्यास, इन्द्रधनुष उपन्यास एवं अगीत साहित्य दर्पण (-अगीत विधा का छंद-विधान ), ब्रज बांसुरी ( ब्रज भाषा काव्य संग्रह), कुछ शायरी की बात होजाए ( ग़ज़ल, नज़्म, कतए , रुबाई, शेर का संग्रह) my blogs-- 1.the world of my thoughts श्याम स्मृति... 2.drsbg.wordpres.com, 3.साहित्य श्याम 4.विजानाति-विजानाति-विज्ञान ५ हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान ६ अगीतायन ७ छिद्रान्वेषी

सोमवार, 16 अप्रैल 2012

इन्द्रधनुष... ..अंक १०-( समापन अन्क )----स्त्री-पुरुष विमर्श पर..... डा श्याम गुप्त का उपन्यास.....

                         ....कर्म की बाती,ज्ञान का घृत हो,प्रीति के दीप जलाओ...
 

                                       अंक... दस ( समापन अन्क)

                                 लगभग दो वर्ष बाद वर्षा की हल्की हल्की बौछारों के साथ मंद मंद सुखद पुरवाई शीतल मंद समीर के रूप में बह रही थी । इसे सुहाने मौसम में मैं वर्षा के एक नए बिरह गीत की प्रथम पंक्ति "तुम दूर से ही मुस्काते हो " को लिखकर गुनुगुना रहा था तभी अचानक 'काल-बेल' बज उठी ।
                                दरवाजे पर सुदर्शन व्यक्तित्व बाले प्रौढ़ पुरुष को सामने खड़े पाया ।
             ' डा कृष्ण गोपाल गर्ग , केजी ?'
              'यस, मैंने आश्चर्य से देखा ।'
             ' डा रमेश ।'
              ओह ! रमेश, दिल्ली से ?
              'क्या हम पहले कभी मिले हैं' , रमेश ने आश्चर्य से पूछा ।
               हाँ..हाँ... सशरीर मिलना ही मिलना थोड़े ही होता है,कालिज में सुमित्रा के सजीव वर्णनों चित्रणों से तो मैं तुमसे मिलता ही रहा हूँ । फिर इतनी सुदर्शन छवि वाला रमेश तो वही हो सकता है ।', मैंने मुस्कुराते हुए कहा ।
              धन्यवाद, तुम्हारी बातों से सुमित्रा की ही ध्वनि आती है, के जी जी । तभी उसने कहा, 'हमारी अच्छी पटती थी ।'
              मैंने इधर-उधर व रमेश के पीछे देखने का प्रयत्न   किया तो रमेश ने कहा, 'कोई नहीं है वहां ।'
              'सुमि ?'
              सुमित्रा नहीं है ।
              क्यों ?
             'मज़बूर थी, नहीं आ सकी ।'
                                    रमेश ने बताया,' लगभग दो वर्ष पहले 'बोम्बे-दिल्ली ' फ्लाईट -५२५...दिल्ली उतरते ही क्रेश होगई थी। सुमित्रा भी उसी में थी। किसी भी कार्य में, किसी भी बिंदु या विषय पर , चर्चा व बहस में कभी हार न मानने बाली  सुमित्रा, उस दिन प्रारब्ध से हार गयी थी और मेरी सुमित्रा स्मृति-शेष हो गयी । यद्यपि उस समय भी उसके मुख मंडल पर सदा रहने वाली संतोष की आभा, एक विजय-दीप्ति व तृप्ति की सदा रहने वाली मुस्कान ही थी ।'
                                   '  तुम्हारे लेख व रचनाएँ वह अवश्य पढ़ती थी जो केजी के नाम से होते थे। वह तुम्हारी फैन थी। शायद कालेज के समय भी एक दो बार तुम्हारा ज़िक्र आया था।  एक या दो बार बच्चों के सामने भी उसने बताया था की केजी मेरा मेडीकल कालिज का सहपाठी -मित्र डा. कृष्ण गोपाल गर्ग है। हमारी अच्छी पटती थी। हम सब भी कभी-कभी तुम्हारी केजी नाम से लेख व रचनाएँ पढ़कर हंसते थे कि  इस व्यक्ति को डाक्टर न होकर धर्म-प्रवक्ता गुरु, पूर्णकालिक कवि या समाज सुधारक होना चाहिए। सुमित्रा के कागजों में पेपरों की कटिंग व पुस्तकों से तुम्हारा पता मिला । आज जब इस शहर में आना हुआ तो सोचा तुमसे मिला जाय। उसके साथ होते हुए तो उसके आस-पास चारों ओर देखने की फुर्सत व आवश्यकता ही प्रतीत नहीं हुई। एसा ही था न सुमि का व्यक्तित्व व प्रभामंडल ।' रमेश ने मेरी ओर देखा ।
                 हूँ, मैंने सर हिलाया ।
                ' मैंने सोचा, उसकी अनुपस्थिति में , उसके आसपास से, नज़दीकी व्यक्तित्वों , मित्रों से कुछ तो उसकी यादों की महक मिलेगी। उसकी उपस्थिति का अहसास होगा।', रमेश ने कहा ।
                                 आसमान में जोर की गड़गड़ाहट हुई । दूर  क्षितिज पर उमड़ी घटाओं के साथ दोनों छोरों को जोड़ता हुआ इन्द्रधनुष सारे आसमान पर फैला हुआ था ।
                                 मैंने उस और संकेत करके कहा,' रमेश ! देखो वह रही सुमि ।' एक इन्द्रधनुष मेरी आँखों के कोरों में छलक आयी पावस बूंदों में भी उतर आया था ।
                                 तभी वर्षा की एक तेज बौछार हम दोनों को सांगोपांग भिगो गयी ।

                               ----- इति....इन्द्रधनुष उपन्यास .... 
                                            ------ आगे क्रमश इन्द्रधनुष उपन्यास का-- समर्पण, भूमिका- इन्द्रधनु्षी विचारों के दरबार में, दो शब्द- इन्द्रधनुष का यथार्थ  व कथ्य ....