ब्लॉग आर्काइव

डा श्याम गुप्त का ब्लोग...

मेरी फ़ोटो
Lucknow, UP, India
एक चिकित्सक, शल्य-चिकित्सक जो हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान व उसकी संस्कृति-सभ्यता के पुनुरुत्थान व समुत्थान को समर्पित है व हिन्दी एवम हिन्दी साहित्य की शुद्धता, सरलता, जन-सम्प्रेषणीयता के साथ कविता को जन-जन के निकट व जन को कविता के निकट लाने को ध्येयबद्ध है क्योंकि साहित्य ही व्यक्ति, समाज, देश राष्ट्र को तथा मानवता को सही राह दिखाने में समर्थ है, आज विश्व के समस्त द्वन्द्वों का मूल कारण मनुष्य का साहित्य से दूर होजाना ही है.... मेरी दस पुस्तकें प्रकाशित हैं... काव्य-दूत,काव्य-मुक्तामृत,;काव्य-निर्झरिणी, सृष्टि ( on creation of earth, life and god),प्रेम-महाकाव्य ,on various forms of love as whole. शूर्पणखा काव्य उपन्यास, इन्द्रधनुष उपन्यास एवं अगीत साहित्य दर्पण (-अगीत विधा का छंद-विधान ), ब्रज बांसुरी ( ब्रज भाषा काव्य संग्रह), कुछ शायरी की बात होजाए ( ग़ज़ल, नज़्म, कतए , रुबाई, शेर का संग्रह) my blogs-- 1.the world of my thoughts श्याम स्मृति... 2.drsbg.wordpres.com, 3.साहित्य श्याम 4.विजानाति-विजानाति-विज्ञान ५ हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान ६ अगीतायन ७ छिद्रान्वेषी

रविवार, 30 सितंबर 2012

अगीत साहित्य दर्पण (क्रमश:) अध्याय तीन-वर्तमान परिदृश्य एवं भविष्य की संभावना--......डा श्याम गुप्त...

                                   ....कर्म की बाती,ज्ञान का घृत हो,प्रीति के दीप जलाओ...

 पिछली पोस्ट से आगे ..... 

            लखनऊ नगर से बाहर  नगरों  के निवासी अगीतकारों में ---श्री धन सिंह मेहता (अल्मोडा), सुरेन्द्र कुमार वर्मा (रायवरेली ), स्नेह प्रभा (दिल्ली), डा मिथिलेश दीक्षित (शिकोहाबाद ), डा इंदिरा अग्रवाल ( अलीगढ़ ), कृष्ण नारायण पांडे ( दिल्ली), जवाहर लाल मधुकर (चेन्नई ), मिथिलेश कुमारी ( पटना ), बाल सोम गौतम (बस्ती ), विनय शंकर दीक्षित (उन्नाव ), ज्वेल थीफ (अलीगढ़), चन्द्रभान चन्द्र (उन्नाव) तथा डा देशबंधु शाहजहाँपुरी ...आदि..|

         देश की सीमापार विदेशों में बसे अगीत रचनाकारों में --श्रीमती डा उषा गुप्ता (अमेरिका), सुरेश चन्द्र शुक्ल ( नार्वे), आर्यभूषण, सुरेश वर्मा, वक्शीस कौर संधू, शकुंतला बहादुर, कैलाश नाथ तिवारी व देवेन्द्र नारायण शुक्ल (  अमेरिका) आदि प्रमुख हैं | 

प्रमुख  अगीत रचनाएँ ....

महाकाव्य  ---१-सौमित्र गुणाकर--वीरवर लक्ष्मण के चरित्र पर --श्री जगत नारायण पाण्डेय |

                 ---२ -सृष्टि ( ईषत इच्छा या बिगबैंग--एक अनुत्तरित उत्तर ) --डा श्याम गुप्त |

खंडकाव्य  --१-मोह और पश्चाताप ( राम कथा आधारित )--श्री जगत नारायण पाण्डेय ..|

                --२- शूर्पणखा ( नारी विमर्श ) --डा श्याम गुप्त ..|

काव्य-कृतियाँ .... 

      अगीतिका (प्. जगत नारायण पाण्डेय ),  अगीत श्री (सोहन लाल सुबुद्ध ), अगीत काव्य के चौदह रत्न (डा रंगनाथ मिश्र सत्य), काव्यमुक्तामृत ( डा श्याम गुप्त), अगीतोत्सव ( डा सत्य ), मेरे सौ अगीत ( अनिल किशोर निडर ), महकते फूल अगीत के (मंजू सक्सेना विनोद), अगीत महल ( सुदर्शन कमलेश ), आँचल के अगीत (काशी नरेश श्रीवास्तव), झांकते अगीत (श्रीकृष्ण तिवारी ), मेरे अगीत छंद(सुरेन्द्र कुमार वर्मा), अगीत काव्य के इक्कीस स्तंभ , अष्टादश पथी,व सोलह महारथी ( सभी डा  सत्य ), कवि सोहन लाल सुबुद्ध का परिचय ( डा सत्य), चाँद को चूमते अगीत (वीरेंद्र निझावन ), गूंजते अगीत (अमर नाथ बाजपई ), अगीतान्कुर व अगीत सौरभ (गिरिजा शंकर पांडे ), विश्वास की ह्त्या (राम कृष्ण दीक्षित फक्कड ), अनकहे अगीत (वीरेंद्र निझावन, अगीत सुमन (प्रेम चंद गुप्त विशाल ), अगीत प्रसून ( राजीव सरन ), मेरे प्रिय अगीत ( गिरिजा देवी निर्लिप्त ), उन्मुख अगीत (नित्यानंद तिवारी ), अगीत आँजुरी (नारायण प्रकाश नज़र ), औरत एक नहीं ( वाहिद अली वाहिद ), दिव्य-अगीत ( धुरेन्द्र प्रसाद बिसारिया ) आदि....|

पत्र-पत्रिकाएं --अगीत त्रैमासिक , अगीतायन ( साप्ताहिक) ---संपादक -श्री अनुराग मिश्र मी.३८८५, अगीतायन, राजाजी पुरम, लखनऊ -१७.

अन्य  रचनाएँ जिनमें अगीत का प्रयोग हुआ ---- मैं भी गांधी हूँ (सूर्य नारायण मिश्र -१९८५), अवंतिका(रामचंद्र शुक्ल-१९८५), अगीत प्रवाह ( तेज नारायण राही ), नैतिकता पूछती है (सोहन लाल सुबुध ), मन दर्पण (मंजू लता तिवारी -१९९४), मैं भी शिव हूँ (कौशलेन्द्र पांडे-२०००), विद्रोही गीत (भगवान स्वरुप कटियार -२०००), काव्य-प्रभा (त्रिभुवन सिंह चौहान -२०००), काव्य-वाटिका ( तेज नारायण राही-२०००), तुम्हारी याद में (जय प्रकाश शर्मा-२०००), कोरिया है सपनों का देश ( डा नीरज कुमार -२०००), गुनहगार हूँ मैं (जावेद अली), प्रवासी अमेरिकी भारतीय -खंड १ व २ (डा उषा गुप्ता-अमेरिका ) एवं वर्तिका ( डा योगेश गुप्त)...|

अगीत  विधा के सम्बन्ध में ग्रंथों, शोध ग्रंथों में उल्लेख व आलेख.....

१-समकालीन कविता और अगीत - जंग बहादुर सक्सेना |

२- अगीत--उद्भव, विकास व संभावनाएं ---गिरिजा शंकर पांडे 'अंकुर' |

३-हिन्दी साहित्य का इतिहास व द्वितीय महायुद्धोत्तर हिन्दी साहित्य का चित्रण --डा लक्ष्मी शंकर वार्ष्णेय |

४-नया साहित्य नए रूप---डा सूर्य प्रसाद दीक्षित |

५-साहित्य की विभिन्न प्रवृत्तियां ---डा जय किशन दीक्षित |

६-छायावादोत्तर प्रगीत काव्य ---डा विनोद गोधरे |

७-हिन्दी साहित्य का विवेचनात्मक इतिहास --डा राजनाथ शर्मा, आगरा |

८-समकालीन कविता-विविध परिदृश्य--डा हर दयाल |

९-अकविता और कला सौंदर्य----डा श्याम परमार --भोपाल | 

१०-अमेरिकी प्रवासी  भारतीय :हिन्दी प्रतिभाएं ---डा उषा गुप्ता |

११-टूटी-फूटी कड़ियाँ ---डा हरिबंश्  राय 'बच्चन' |

१२-हिन्दी साहित्य का सुबोध इतिहास ---बाबू गुलाब राय ....( परिवर्धित संस्करण सन २००० ई.)

१३-डा वेरस्की, वारसा विश्व विद्यालय, पोलेंड ---के आलेख में अगीत का उल्लेख |

१४- डा वोलीशेव-- रूसी-हिन्दी विद्वान, मास्को द्वारा 'प्रावदा ' में प्रकाशित आलेख- "भारत की किस्म किस्म की कविता " में अगीत का उल्लेख --जिसका हिन्दी दिनमान में अनुवाद  हेम चंद पांडे ने किया |

अगीत पर शोध प्रबंध ....

"हिन्दी साहित्य सेवी संस्था : अगीत परिषद का अनुशीलन" ---लाल बहादुर वर्मा 

साहित्यकारों व अन्य विद्वानों द्वारा अगीत पर सम्म्मतियाँ  व टिप्पणियाँ ---

१- अधिकतर विदेशों में कहीं कविता गाकर नहीं पढ़ी जाती है, अतः अगीत का भविष्य उज्जवल है |                                                                                                --उपन्यासकार यशपाल....     

२-यदि अगीत फैशन के लिए नहीं है तो तो उसका भविष्य उज्जवल है -श्री अमृतलाल नागर उपन्यासकार|

३-अगीत विधा का आंदोलन भारतीय पृष्ठभूमि पर आधारित है |---समीक्षक उमेशचन्द्र शुक्ल  |

४-अगीत के रचनाकार कर्तव्यनिष्ठ हैं ---चौधरी नबाव सिंह यादव पूर्व मंत्री उ.प्र. |

५-अगीत वस्तुतः गीति-काव्य का ही नया अभिकल्प है |--प्रोफ. सूर्यप्रसाद दीक्षित ,लखनऊ वि.वि   |

६-"अगीतवाद की अतीव आवश्यकता है " ---डा वेरस्की , वारसा, पोलेंड |

७-अगीतकार अनास्था से नाता तोडकर आस्था का हाथ पकडना चाहता है |--डा शम्भूनाथ चतर्वेदी  |

८-  अगीत एक निषेधात्मक आन्दोलन नहीं है |--डा जगदीश गुप्त, साहित्यकार |

९-अगीत पत्रिका हिन्दी काव्य की उर्वरा शक्ति की परिचायका है |-पद्मश्री लक्ष्मी नारायण दुबे ..|

१०-आज नहीं किन्तु कुछ समय उपरान्त इन अगीत पत्रिकाओं का बहुत बड़ा साहित्यिक मूल्यांकन होगा |

                                                                                               ---- डा त्रिलोकी नारायण दीक्षित |      

११-अगीत को नई उषा मिले |--डा उषा गुप्ता, रीडर, हिन्दी विभाग , लखनऊ वि.वि. |

१२-मुझे विश्वास है अगीत स्थायित्व ग्रहण करेगा |--कमलापति मिश्र |

१३-अगीत बुद्धि से निकलकर ह्रदय को छूना चाहता है |--रामचंद्र शुक्ल , न्यायाधीश |

१४-कविता के क्षेत्र में गीत-अगीत की निर्झरिणी बह रही है |--शंभू नाथ आईएएस व साहित्यकार |

१५-अगीत मौन रहते हुए भी मुखर रहता है, यह मन व बुद्धि के सम्यक अनुशीलन से उत्पन्न एक विधा है धारा है |

१६-अगीत में भी अपार संभावनाएं हैं |   ---डा श्याम गुप्त ..शल्य-चिकित्सक व साहित्यकार |

१७-आज छोटी कविताओं का, अगीत का युग है |--डा लक्ष्मी नारायण दुबे, साहित्यकार  |

१८-अगीत के रचनाकारों में नए तथ्य मिलते हैं |--- डा लोथार लुत्से,  जर्मनी |

१९-भारत में किसिम किसिम की कविता में अगीत काव्य का महत्वपूर्ण स्थान है -डा चेलिशेव, मास्को |

                                                  ---- इति अध्याय तीन ---

  अगीत साहित्य दर्पण  (क्रमश:),  अध्याय चार --अगीत छंद एवं उनका रचना विधान ....अगली पोस्ट में