ब्लॉग आर्काइव

डा श्याम गुप्त का ब्लोग...

मेरी फ़ोटो
Lucknow, UP, India
एक चिकित्सक, शल्य-चिकित्सक जो हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान व उसकी संस्कृति-सभ्यता के पुनुरुत्थान व समुत्थान को समर्पित है व हिन्दी एवम हिन्दी साहित्य की शुद्धता, सरलता, जन-सम्प्रेषणीयता के साथ कविता को जन-जन के निकट व जन को कविता के निकट लाने को ध्येयबद्ध है क्योंकि साहित्य ही व्यक्ति, समाज, देश राष्ट्र को तथा मानवता को सही राह दिखाने में समर्थ है, आज विश्व के समस्त द्वन्द्वों का मूल कारण मनुष्य का साहित्य से दूर होजाना ही है.... मेरी दस पुस्तकें प्रकाशित हैं... काव्य-दूत,काव्य-मुक्तामृत,;काव्य-निर्झरिणी, सृष्टि ( on creation of earth, life and god),प्रेम-महाकाव्य ,on various forms of love as whole. शूर्पणखा काव्य उपन्यास, इन्द्रधनुष उपन्यास एवं अगीत साहित्य दर्पण (-अगीत विधा का छंद-विधान ), ब्रज बांसुरी ( ब्रज भाषा काव्य संग्रह), कुछ शायरी की बात होजाए ( ग़ज़ल, नज़्म, कतए , रुबाई, शेर का संग्रह) my blogs-- 1.the world of my thoughts श्याम स्मृति... 2.drsbg.wordpres.com, 3.साहित्य श्याम 4.विजानाति-विजानाति-विज्ञान ५ हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान ६ अगीतायन ७ छिद्रान्वेषी

शुक्रवार, 14 दिसंबर 2012

सृष्टि महाकाव्य ---सप्तम सर्ग --ब्रह्मा प्रादुर्भाव एवं स्मरण खंड ......

                                      ....कर्म की बाती,ज्ञान का घृत हो,प्रीति के दीप जलाओ...



सृष्टि महाकाव्य ---सप्तम सर्ग --ब्रह्मा प्रादुर्भाव एवं स्मरण खंड ......




सृष्टि महाकाव्य-(ईषत- इच्छा या बिगबेंग--एक अनुत्तरित उत्तर )-- -------वस्तुत सृष्टि हर पल, हर कण कण में होती रहती है,यह एक सतत प्रक्रिया है , जो ब्रह्म संकल्प-(ज्ञान--ब्रह्मा को ब्रह्म द्वारा ज्ञान) ,ब्रह्म इच्छा-(एकोहं बहुस्याम ... इच्छा) सृष्टि (क्रिया- ब्रह्मा रचयिता ) की क्रमिक प्रक्रिया है --किसी भी पल प्रत्येक कण कण में चलती रहती है, जिससे स्रिष्टि व प्रत्येक पदार्थ की उत्पत्ति होती हैप्रत्येक पदार्थ नाश(लय-प्रलय- शिव ) की और प्रतिपल उन्मुख है
(यह महाकाव्य अगीत विधामें आधुनिक विज्ञान ,दर्शन व वैदिक-विज्ञान के समन्वयात्मक विषय पर सर्वप्रथम रचितमहाकाव्य है , इसमें -सृष्टि की उत्पत्ति, ब्रह्माण्ड व जीवन और मानव की उत्पत्ति के गूढ़तम विषयको सरल भाषा मेंव्याख्यायित कियागया है | इस .महाकाव्य को हिन्दी साहित्य की अतुकांत कविता की 'अगीत-विधा' के छंद - 'लयबद्धषटपदी अगीत छंद' -में
निवद्ध किया गया है जो एकादश सर्गों में वर्णित है... ... रचयिता --डा श्याम गुप्त ...
)    
  
                      पिछले सर्ग में मूल तत्व पंचौदन अजः से मूल अंड , ब्रह्मांड (असंख्य ब्रह्मांडों) के बनने की प्रक्रिया का वर्णन किया गया था| प्रस्तुत सप्तम सर्ग में -- उस अंड से आगे सृष्टि कैसे होगी यह ज्ञान कैसे प्राप्त हुआ एवं उस ज्ञान प्राप्ति तक सृष्टि -रचाने की प्रक्रिया क्यों व कैसे, कबतक बंद रही , फिर कैसे प्रारम्भ हुई इस पर वैदिक व आधुनिक मत की व्याख्या प्रस्तुत की जारही है-----कुल ११ छंद ...
१-
रहा साल भर अंड में, ब्रह्मा,
ऊपर नीचे आदि मध्य में ;
बिखरे तत्व मिला,रचने के-
सृष्टि,यत्न थे सारे निष्फल |
आदि-शक्ति की सु प्रेरणा से,
तपः किया,प्रार्थना विष्णु की ||
२-
महाउदधि, जलरूप अयन में,
सृष्टि की इच्छा में रत जो;
विष्णु नाम से रहा शयन रत,
शेष ब्रह्म पर वह नारायण |
नाभि-केंद्र से नारायण के,
स्वर्ण-नाल पर खिला जलज-दल||
३-
ब्रह्मा, धर कर रूप चतुर्मुख ,
काल-स्वरुप उस महा विष्णु का;
स्वर्ण कमल पर हुआ अवतरित |
और तभी से ब्रह्मा का दिन,
हुआ प्रभावी और समय की,
नियमन-गणना हुई तभी से ||
४-
आदि रचयिता, काल नियंता,
सृजन हेतु उस स्वर्ण-नाल पर;
रहा घूमता, ऊपर-नीचे -
कई युगों तक५ , यही सोचता;
कैसे रचूँ सृष्टि यह सारी,
नहीं स्मरण था कुछ भी तो ||
५-
नव विज्ञान है यह समझाता,
हाइड्रोजन-हीलियम बनने की;
प्रक्रिया के बाद, सृष्टि-क्रम ,
स्थिर रहा था कई युगों तक |
और युगों के बाद ही पुनः ,
सृष्टि-सृजन प्रारम्भ हुआ था ||
६-
यह ब्रह्माण्ड बस फ़ैल रहा था,
और पुनः जब शीतल होकर ;
इलेक्ट्रोन एवं केन्द्रक के,
मध्य हुआ क्षीण प्रतिकर्षण |
आपस में जुड़कर फिर ये कण ,
रचने लगे विविध कण-प्रतिकण||
७-
वैदिक दर्शन यह कहता है,
ब्रह्मा को विस्मृत था सब कुछ |
तप, प्रभु-इच्छा,आद्य-शक्ति के,
कृपा-भाव से ही ब्रह्मा को;
हुआ स्मरण ,पुरा सृष्टि-क्रम;
सृष्टि पुनः आरम्भ हुई तब ||
८-
तप, आराधना-महा-विष्णु की,
ब्रह्मा ने की, आर्त भाव से |
वह प्रसविनी-शक्तिविष्णु की-
सरस्वती, वीणा-ध्वनि करती,
प्रकट हुई, स्वर-स्फुरणा१० से,
सृष्टि-ज्ञान ब्रहमा ने पाया ||
९-
प्रभ-इच्छा, माँ की स्फुरणा,
और शब्द के ज्ञान के बिना;
भला एक कण भर भी जग में,
ज्ञान किसे और कब होता है|
बिना ज्ञान ब्रह्मा भी कैसे,
कहाँ एक कण भी रच सकता ||
१०-
स्तुति,अर्चन और वन्दना ,
माँ वाणी की,की ब्रह्मा ने |
आदि वेद-माँ , गायत्री का-
धरकर रूप, सरस्वती माता-
समा गईं वे ज्ञान रूप में,
ब्रह्मा के मुख रूप ,ह्रदय में ||
११-
वाणी के उन ज्ञान स्वरों से,
विद्या रासायनिक संयोग की;
बिखरे कण नियमित करने की;
सृष्टि-सृजन की पुरा प्रक्रिया११
का स्मरण हुआ ब्रह्मा को,
रचने लगे सृष्टि हर्षित मन || --------क्रमश:--आगे -अष्ठम सर्ग......

{कुंजिका--- १=ब्रह्मा एक वर्ष ( ब्रह्मा का --युगों मानव वर्ष तक - अंड के परि-पक्व होने का समय ) अंड में घूमता रहा और अपना उत्पत्ति का अभिप्रायः नहीं पता था |; २= नार -जल, अयन-निवास---जल (अंतरिक्ष ) में स्थित नारायण विष्णु ; ३= सृष्टि के मूल अंड रचना के पश्चात शेष ऊर्जा , जिसे शेषनाग , शेष-ब्रह्म कहा गया है जो नारायण के साथ सदैव उपस्थित है ; ४= चार-मुखों( चतुर्दिक ज्ञान सहित ) वाला ब्रह्मा का सृष्टा रूप में आविर्भाव ; ५ व ६ = ब्रह्मा को युगों तक अपने अन्दर स्थित सृष्टि ज्ञान का स्मरण नहीं होरहा था अतः सृष्टि-रचना प्रक्रिया युगों तक रुकी रही--- आधुनिक विज्ञान के अनुसार एनीहिलेशन अवस्था के पश्चात ( बिगबेंग के प्रथम तीन मिनट पश्चात) अति-प्रवल ताप पर हीलियम-हाइड्रोजन बनकर सारे इलेक्ट्रोंस समाप्त होगये थे अतः परमाणु व परमाणु-पूर्व कणों के न्यूक्लियस से परमाणु नहीं बन पारहे थे अतः युगों तक सृष्टि प्रक्रिया रुकी रही थी |; =आधुनिक विज्ञान के अनुसार युगों बाद अति-शीतल ताप होने पर नवीन इलेक्ट्रोंस बनना प्रारम्भ हुआ वे केन्द्रक (प्रोटोन+न्यूत्रों ) के चारों और घूमने लगे व पदार्थ बनने की प्रक्रिया पुनः प्रारम्भ हुई |; ८ व ११ =प्रत्येक कल्प में महाप्रलय के बाद पुनः पुनः सृष्टि -सृजन की क्रमिक प्रक्रिया ; ९=आदि-ब्रह्म , विष्णु की  आदि कार्यकारी शक्ति , योगमाया, मूल ऊर्जा का उत्प्रेरक रूप ; १०= आदि-नाद स्वर-आदि-वाणी-वीणा स्वर द्वारा सृष्टि ज्ञान का पुनः स्मरण तत्पश्चात ब्रह्मा सृष्टि सृजन कर्म में रत हुए }