ब्लॉग आर्काइव

डा श्याम गुप्त का ब्लोग...

मेरी फ़ोटो
Lucknow, UP, India
एक चिकित्सक, शल्य-चिकित्सक जो हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान व उसकी संस्कृति-सभ्यता के पुनुरुत्थान व समुत्थान को समर्पित है व हिन्दी एवम हिन्दी साहित्य की शुद्धता, सरलता, जन-सम्प्रेषणीयता के साथ कविता को जन-जन के निकट व जन को कविता के निकट लाने को ध्येयबद्ध है क्योंकि साहित्य ही व्यक्ति, समाज, देश राष्ट्र को तथा मानवता को सही राह दिखाने में समर्थ है, आज विश्व के समस्त द्वन्द्वों का मूल कारण मनुष्य का साहित्य से दूर होजाना ही है.... मेरी दस पुस्तकें प्रकाशित हैं... काव्य-दूत,काव्य-मुक्तामृत,;काव्य-निर्झरिणी, सृष्टि ( on creation of earth, life and god),प्रेम-महाकाव्य ,on various forms of love as whole. शूर्पणखा काव्य उपन्यास, इन्द्रधनुष उपन्यास एवं अगीत साहित्य दर्पण (-अगीत विधा का छंद-विधान ), ब्रज बांसुरी ( ब्रज भाषा काव्य संग्रह), कुछ शायरी की बात होजाए ( ग़ज़ल, नज़्म, कतए , रुबाई, शेर का संग्रह) my blogs-- 1.the world of my thoughts श्याम स्मृति... 2.drsbg.wordpres.com, 3.साहित्य श्याम 4.विजानाति-विजानाति-विज्ञान ५ हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान ६ अगीतायन ७ छिद्रान्वेषी

शनिवार, 5 जनवरी 2013

सृष्टि महाकाव्य---अष्टम सर्ग--सृष्टि खंड......डा श्याम गुप्त ....

                                      


                                  ....कर्म की बाती,ज्ञान का घृत हो,प्रीति के दीप जलाओ...

                 सृष्टि महाकाव्य---अष्टम सर्ग--सृष्टि खंड...


 


इससे पहले सप्तम सर्ग में ब्रह्मा को भूली हुई पुरा सृष्टि का ज्ञान हुआ एवं वे समस्त बिखरे तत्वों को समेट कर बने हुए आदि तत्व , पंचौदन अजः से सृष्टि रचना हेतु तत्पर हुए....प्रस्तुत अष्टम सर्ग -सृष्टि-खंड में --सृष्टि निर्माण के विभिन्न चरणों ,चेतन अचेतन - जड़, जीव , जंगम,ऊर्जाओं की उत्पत्ति ब्रह्मा द्वारा अपने विभिन्न भावों द्वारा मानव , विभिन्न गुणों , भावों , की सृष्टि का विशद वर्णन किया गया है; एवं संक्षिप्त में आधुनिक विज्ञान के जीव उत्पत्ति मत से तादाम्य भी प्रस्तुत किया गया है| कुल ३२ छंद ----- प्रथम भाग --छंद से १५ तक......

-
प्रभु इच्छा माँ की स्फुरणा ,
से पाए उस सृष्टि ज्ञान से;
किये नियंत्रित एवं नियमित ,
ब्रह्मा ने वे सारे अवयव ;
जो स्वतंत्र थे आदि-रूप में,
बने पदार्थ भूत सारे ही ||
-
आद्य -शक्ति के चार चरण युत
ब्रह्मा ने सब सृष्टि रचाई |
प्रथम चरण में भाव सावित्री
जो था मूल पदार्थ अचेतन |
देव मनुज और प्राणि क्रमशः थे,
तीन चरण चेतन सत्ता मय ||
-
प्रथम चरण जो सृष्टि भाव था ,
मूल दृव्य की संरचना का;
सावित्री-परिकर कहलाया |
निर्धारित निश्चित अनुशासन,
मर्यादा पालन करने का -
पर गतिशील सतत रहने का |
-
हो गायत्री भाव , सचेतन,
निरत सदा देते रहने में |
थे परमार्थ भाव, श्रृद्धास्पद ,
पवन ,अग्नि, आकाश, धरित्री,
बृक्ष ,वरुण- सब देव कहाए |
सदा सर्वदा पूज्य, सृष्टि के ||
-
तृतीय कृति मानव की रचना,
स्व विवेक, कर्तव्य निष्ठा ;
सभी इन्द्रियाँ मिलीं मनुज को,
साधन हेतु पुरुषार्थ-भाव के |
वेद विहित उस आत्म-बोध से,
हुआ सृष्टि का, श्रेष्ठ-तत्व वह ||
-
प्राणि जगत- चौथी स्फुरणा,
दी ब्रह्मा को आद्य-शक्ति ने |
अपनी अपनी सुख-सुविधा हित,
प्रकृति के अनुसार जियें जो |
मानव -उद्भिज मध्य संतुलन -
रखकर,रखें संतुलित जग को ||
-
हेम-अंड को किया विभाजित,
ब्रह्मा ने जब दो भागों में;
ऊपर का आकाश-भाव और,
नीचे का पृथ्वी कहलाया |
और मध्य में जल को स्थित-
कर ब्रह्मा ने अति सुख पाया ||
-
ऊपर स्थित महाकाश में,
वायु, महत्तत्व, अहंकार, मन;
शब्द और गुण, तन्मात्राएँ,
सत तम रज को,काल और गति-
वेद आदि सब ही संस्थाएं ;
किये व्यवस्थित, स्थित, नियमित ||
-
नीचे तल में विविध भूत गण ,
पृथ्वी, ग्रह, प्रकृति, दिशाएँ ;
स्वः,मह:,जन:, सब लोक चराचर|
सब पदार्थ, जड़ जीव जंगम ,
सूर्य चन्द्र अग्नि और ऊर्जा;
क्षिति तल भाव पर किये व्यवस्थित ||
१०-
मध्य भाग , जल-भाव निहित में,
रस और रस के सभी भाव-रस |
सभी इन्द्रियाँ, काम क्रोध और-
कर्म-अकर्म, वाणी,सब सुख-दुःख|
द्वंद्व-भाव , प्राण और नवरस ,
स्थित किये हुए अवस्थित ||
११-
इंद्र, संगठक-शक्ति ब्रह्म की-
अणु-बंधक, रासायनिक संगठन;
बने विविध अणु, बिखर जाएँ ,
पालन-पोषण-धारण के हित |
विविध देव और ऊर्जाओं को,
ब्रह्मदेव ने किया विनिर्मित ||
१२-
विविध रूप में पोषक गोएँ ,
प्रकाश-किरणें ,ऊर्जा, वाणी |
पंचभूत में व्याप्त ऊर्जा,
तुर्यवार गौ,तिर्यक-सृष्टि हित -
नभचर,जलचर, भूचर रूपी-
त्रिपदा-गोएँ हुईं विनिर्मित ||
१३-
सब पदार्थ और सब भूतों के,
पोषण हित वे देव वातोष्पति|
रूप वास्तविक गढ़ने -त्वष्टा ,
पालन को तब इंद्र-देव के,

सूर्य वायु सरस्वती भारती ,
किया अग्नि, ऊर्जा को निश्चित ||
१४-
सब क्रियाएं चलें सुचारू ,
भार दिया अश्विनी-द्वय को |
चतुर्मुख के चार मुखों से,
ऋक यजु साम अथर्व वेद सब-
छंद शास्त्र का हुआ अवतरण ;
विविध ज्ञान जगती में आया ||
१५-
पंचम मुख जो लोक रूप था-
निसृत आयुर्वेद हुआ, जो-
वेद पांचवा- महाज्ञान का |
स्मृति पुराण,विविध विज्ञान सब-
निसृत हुए, ब्रह्मा के मुख से;
यम-नियम और विधि-विधान सब ||

(कुंजिका ---= ब्रह्म या पंचौदन पदार्थ का वह विभाग जिससे समस्त अचेतन जड़ -प्रकृति का निर्माण हुआ; = वह विभाग जिससे समस्त चेतन जगत का निर्माण हुआ =समस्त वनस्पति जगत = स्वयं विचार-कर्म करने योग्य कृति =पदार्थ तत्व = देव अर्थात प्रत्येक पदार्थ में निहित उसकी मूल- चेतन शक्ति = विभिन्न ऊर्जाएं = त्रिआयामी पदार्थ सृष्टि ..जिससे सब दृश्य पदार्थ बने हैं | )





--भाग दो....

         --सृष्टि निर्माण के विभिन्न चरणों ,चेतन व अचेतन - जड़, जीव , जंगम,ऊर्जाओं की उत्पत्ति व ब्रह्मा द्वारा अपने विभिन्न भावों -रूपों द्वारा मानव व मानवेतर सृष्टि विभिन्न गुणों , भावों की सृष्टि व उनके विकास का विशद वर्णन किया गया है; एवं आधुनिक विज्ञान के जीव उत्पत्ति मत से तादाम्य भी प्रस्तुत किया गया है| कुल ३२ छंद ---द्वितीय भाग --छंद १६ से ३२ तक.....

१६-
प्रारम्भिक क्रम में ही सृष्टि के,
असावधानी वश ब्रह्मा की ;
सृष्टि तमोगुणी व्यक्त होगई |
अज्ञान भोग इच्छा आग्रह और,
क्रोध सहित जो सदा सर्वदा;
थी योग्य पुरुषार्थ भाव के ||
१७-
तिर्यक सृष्टि रची ब्रह्मा ने,
जो थे पशु-पक्षी अज्ञानी ;
अहंकारमय शून्य-विवेकी ,
भ्रष्ट आचरित, कुमार्ग गामी |
सभी सृष्टि ,यह भी निष्फल थी ,
अति योग्य पुरुषार्थ भाव के ||
१८-
सात्विक-सृष्टि की उत्पत्ति से,
भी ब्रह्मा को मिला नहीं सुख;
ज्ञानवान अति दिव्य विषय के-
प्रेमी थे, वे सभी दिव्य जन |
अनुपयोगी थे वे सब भी ,
थे योग्य पुरुषार्थ भाव के ||
१९-
तप साधना युक्त भाव में ,
ब्रह्मा ने मानव रच डाला |
क्रियाशील अतिविकसित था जो -
तीन गुणों युत,ज्ञान कर्म युत,
साधनशील सदा लक्ष्योंन्मुख,
अतः हुआ दुःख का सागर भी ||
२०-
सुख-दुःख,द्वंद्व-भाव युत मानव,
उत्तम साधक रूप ब्रह्म का |
सब साधन सब ज्ञान-गुणों युत ,
श्रेय-प्रेय के सभी योग्य था |
धर्म, अर्थ और काम मोक्ष के,
पुरुषार्थ के सदा योग्य था ||
२१ -
विविध भाव और रूप प्रकृतिसे ,
विधिना ने की विविध सर्जना |
तमो-भाव में असुर,जानु से-
वैश्य,चरण से शूद्र बन गए |
त्याग किया जब तम शरीर का ,
रात्रि, रात्रि के भाव बने सब ||
२२-
भाव, सत्व-गुण से ब्रह्मा के,
बने देव और मुख से ब्राह्मण ;
पार्श्व भाग से बने पितृगण,
वे संध्या के भाव बन गए |
देह त्याग से सत्व भाव की,
दिन और दिन के भाव बने सब ||
२३-
भाव रजोगुण से सब मानव ,
काया से वे काम-क्षुधा सब |
बक्षस्थल से उस ब्रह्मा के,
क्षत्रिय,क्षत्रिय-भाव बने सब |
रज: भाव की देह त्यागकर ,
ब्रह्मा उषा -भाव होगये ||
२४-
अन्धकार में भूखी-सृष्टि,
राक्षस,यक्ष आदि हुए निर्मित;
भक्षण रक्षण भाव बनाया |
केश गिरे सिर के, तनाव में -
ब्रह्मा के, अहिवर्ग बन गया ;
और गायन क्षण में गन्धर्व ||
२५-
क्रोध में क्रोधी,मांसाहारी ,
पीतवर्ण मुख बने पिशाच |
पूर्व मुख से गायत्री-ऋक,
दक्षिण मुख से बृहत्साम-यजु;
सामवेद-जगती,पश्चिम मुख,
उत्तर से, अथर्व-वैराग्य ||
२६-
ब्रहमचर्य, गृह, वानप्रस्थ और-
सन्यासादिक् चार आश्रम |
मानव जीवन की उन्नति के,
क्रमिक विकास के भाव बनाए |
धर्म-विमुख, प्रभु-विमुख जनों को,
किया नरक का दंड विधान ||
२७-
क्रमिक विकास है यह सृष्टि का,
अथवा ब्रह्म का क्रमिक-विधान |
अथवा प्रभु की क्रमिक सर्ज़ना ,
ब्रह्मा की स्मृत-स्फुरणा |
किन्तु यही क्रम है विकास का,
जो विज्ञान ने अब ज़ाना है ||
२८-
नव-विज्ञान यही कहता है,
पहले जड़-प्रकृति बनी सब |
अंतरिक्ष का, ब्रह्माण्ड का,
फैलते जाना सृष्टि-क्रम है |
और सिकुड़ना लय का क्रम है,
कारण ज्ञात नहीं हो पाया ||
२९-
जड़ प्रकृति-कण में संयोग से,
रासायनिक प्रक्रिया हो गयी |
अथवा उल्का के निपात से,
जड़ जल-अणु में जीवन पनपा |
एक कोष चेतन प्राणी से,
क्रमिक विकास हुआ मानव का ||
३०-
मानव का जो आज रूप है,
क्रमिक विकास हुआ वानर से|
थलचर नभचर अन्य सभी हैं,
विक्सित रूप मत्स्य-जलचर से |
जल में प्रथम जीव आया था,
धूम्रकेतु संग अंतरिक्ष से ||
३१-
श्रुति दर्शन अध्यात्म बताता-
चेतन रहता सदा उपस्थित ,
इच्छा रूप में पर:ब्रह्म की ;
मूल चेतना सभी कणों की-
जो गति बन कर , करे सर्जना ,
स्वयं उपस्थित हो कण कण में ||
३२-
चेतन भाव कणों से सारे,
जड़ और जंगम रूप उभरते;
पूर्व-नियोजित, निश्चित क्रम से,
जीव और जड़ सृष्टि बनाते |
लय में जड़,चेतन में लय हो,
चेतन , ब्रह्म में लय होजाता ||

( कुंजिका- १= पशु, पक्षी सृष्टि जो विवेक रहित होते हैं ; २= देव, मुनि आदि सात्विक सृष्टि जो कर्म नहीं करते ; ३=संसार व मोक्ष , ज्ञान व अज्ञान जीवन के दोनों पक्षों का संयोजन ; ४= कर्म कर सकने की योग्यता , श्रेय-प्रेय दोनों के समन्वय से जीवन के व्यवहारिक पक्ष की योग्यता सिर्फ मानव में ही होती है ; ५= ब्रह्मा के विविध रूपों व भावों के शरीरों से विविध सृष्टि हुई ; ६= रेंगने वाले सभी जीव ; ७= आधुनिक विज्ञान के अनुसार पहले जड़ प्रकृति बनी फिर संयोग से या अंतरिक्ष से , धूम्रकेतु द्वारा पृथ्वी के जड़ कणों में परिवर्तन से (चेतन) जीवन की उत्पत्ति हुई ; ८= वैदिक विग्यान के अनुसार चेतन सदा ही उपस्थित रहता है( बस व्यक्त -अव्यक्त होता रहता है ) उसी से पहले समस्त जड़ जगत की उत्पत्ति होती है फिर चेतन तत्व (ब्रह्म-तत्व) प्रत्येक तत्व( जड़ व जीव ) में प्रवेश करके उसका मूल कार्यकारी भाव बनता है तभी कोई भी कण या तत्व --जड़ या जीव क्रिया करने लायक होता है |)
                                                  ----अष्टम सर्ग समाप्त ....क्रमश: ---नवम सर्ग.....