ब्लॉग आर्काइव

डा श्याम गुप्त का ब्लोग...

मेरी फ़ोटो
Lucknow, UP, India
एक चिकित्सक, शल्य-चिकित्सक जो हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान व उसकी संस्कृति-सभ्यता के पुनुरुत्थान व समुत्थान को समर्पित है व हिन्दी एवम हिन्दी साहित्य की शुद्धता, सरलता, जन-सम्प्रेषणीयता के साथ कविता को जन-जन के निकट व जन को कविता के निकट लाने को ध्येयबद्ध है क्योंकि साहित्य ही व्यक्ति, समाज, देश राष्ट्र को तथा मानवता को सही राह दिखाने में समर्थ है, आज विश्व के समस्त द्वन्द्वों का मूल कारण मनुष्य का साहित्य से दूर होजाना ही है.... मेरी दस पुस्तकें प्रकाशित हैं... काव्य-दूत,काव्य-मुक्तामृत,;काव्य-निर्झरिणी, सृष्टि ( on creation of earth, life and god),प्रेम-महाकाव्य ,on various forms of love as whole. शूर्पणखा काव्य उपन्यास, इन्द्रधनुष उपन्यास एवं अगीत साहित्य दर्पण (-अगीत विधा का छंद-विधान ), ब्रज बांसुरी ( ब्रज भाषा काव्य संग्रह), कुछ शायरी की बात होजाए ( ग़ज़ल, नज़्म, कतए , रुबाई, शेर का संग्रह) my blogs-- 1.the world of my thoughts श्याम स्मृति... 2.drsbg.wordpres.com, 3.साहित्य श्याम 4.विजानाति-विजानाति-विज्ञान ५ हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान ६ अगीतायन ७ छिद्रान्वेषी

गुरुवार, 1 अक्तूबर 2015

माँ का वंदन..श्राद्ध पर्व पर ---ग़ज़ल---ड़ा श्याम गुप्त

                                ....कर्म की बाती,ज्ञान का घृत हो,प्रीति के दीप जलाओ...


श्राद्ध पर्व पर ---
Drshyam Gupta's photo.
माँ का वंदन..
फिर आज माँ की याद आई सुबह सुबह |
शीतल पवन सी घर में आयी सुबह सुबह |

वो लोरियां, वो मस्तियाँ, वो खेलना खाना,
ममता की छाँह की सुरभि छाई सुबह सुबह |

वो चाय दूध नाश्ता जबरन ही खिलाना,
माँ अन्नपूर्णा सी छवि भाई सुबह सुबह |

परिवार के सब दर्दो-दुःख खुद पर ही उठाये,
कदमों में ज़न्नत जैसे सिमट आयी सुबह सुबह |

अब श्याम क्या कहें माँ औ ममता की कहानी,
कायनात सारी कर रही वंदन सुबह सुबह ||

सम्राट चन्द्रगुप्त की विदेशी पत्नी हेलेना .....ड़ा श्याम गुप्त ..

                                     ....कर्म की बाती,ज्ञान का घृत हो,प्रीति के दीप जलाओ...

सम्राट अशोक



सम्राट चन्द्रगुप्त की विदेशी पत्नी हेलेना 
         यूनानी आक्रमणकारी सेल्यूकस चन्द्रगुप्त मौर्य से हार गया था उसकी सेना बंदी बना ली गयी|  तब उसने अपनी खूबसूरत बेटी हेलेना के विवाह का प्रस्ताव चन्द्रगुप्त के पास भेजा |  हेलेन बेहद खुबसूरत थी |  आचार्य चाणक्य ने उसका विवाह सम्राट चन्द्रगुप्त से कराया| आचार्य ने  विवाह से पहले हेलेन और चन्द्रगुप्त से कुछ शर्ते रखी जिस पर उन दोनों का विवाह हुआ |
             पहली शर्त यह थी की उन दोनों से उत्पन्न संतान उनके राज्य का उत्तराधिकारी नहीं होगा क्योंकि---
१.हेलेन एक विदेशी महिला है , भारत के पूर्वजो से उसका कोई नाता नहीं है| भारतीय संस्कृति से हेलेन पूर्णतः अनभिग्य है और....
२.हेलेन विदेशी शत्रुओ की बेटी है. उसकी निष्ठा कभी भारत के साथ नहीं हो सकती
३.हेलेन का बेटा विदेशी माँ का पुत्र होने के नाते उसके प्रभाव से कभी मुक्त नहीं हो पायेगा और भारतीय माटी, भारतीय लोगो के प्रति पूर्ण निष्ठावान नहीं हो पायेगा.

               दूसरी शर्त - वह कभी भी चन्द्रगुप्त के राज्य कार्य में हस्तक्षेप नहीं करेगी और राजनीति और प्रशासनिक अधिकार से पूर्णतया विरत रहेगी. परन्तु गृहस्थ जीवन में हेलेन का पूर्ण अधिकार होगा |
 


श्रीकृष्ण के बाद ,भारत ही नही विश्व भर में चाणक्य जैसा कूटनीतिक और नीतिकार राजनितिज्ञ आज तक दूसरा कोई नही पैदा हुआ |

 

ग़ज़ल--सुबह सुबह .. डा श्याम गुप्त

                            ....कर्म की बाती,ज्ञान का घृत हो,प्रीति के दीप जलाओ...


ग़ज़ल--सुबह सुबह ..

कल फिर से तेरी याद आई सुबह सुबह |
ताजा हवा कोई चली आई सुबह सुबह |

वो बातें मुलाकातें वो कहना सुनाना,
साँसों ने तेरी नज़्म सुनाई सुबह सुबह |

वेवक्त वक्त आके सताना औ छेड़ना,
उस गुजरे वक्त की धुंध सी छाई सुबह सुबह |

वो वादों इरादों का जहाँ, इश्क की दुनिया
नस नस में तेरी महक समाई सुबह सुबह |

सच में नहीं , ना ख़्वाब में , ख्यालों में ही सही,
तू रूबरू थी, दिल में तू आई सुबह सुबह |

भूले न भूलकर भी श्याम' वो आरजू तेरी,
आँखों में नमी बनके उतर आई सुबह सुबह ||
Like   Comment