ब्लॉग आर्काइव

डा श्याम गुप्त का ब्लोग...

मेरी फ़ोटो
Lucknow, UP, India
एक चिकित्सक, शल्य-चिकित्सक जो हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान व उसकी संस्कृति-सभ्यता के पुनुरुत्थान व समुत्थान को समर्पित है व हिन्दी एवम हिन्दी साहित्य की शुद्धता, सरलता, जन-सम्प्रेषणीयता के साथ कविता को जन-जन के निकट व जन को कविता के निकट लाने को ध्येयबद्ध है क्योंकि साहित्य ही व्यक्ति, समाज, देश राष्ट्र को तथा मानवता को सही राह दिखाने में समर्थ है, आज विश्व के समस्त द्वन्द्वों का मूल कारण मनुष्य का साहित्य से दूर होजाना ही है.... मेरी दस पुस्तकें प्रकाशित हैं... काव्य-दूत,काव्य-मुक्तामृत,;काव्य-निर्झरिणी, सृष्टि ( on creation of earth, life and god),प्रेम-महाकाव्य ,on various forms of love as whole. शूर्पणखा काव्य उपन्यास, इन्द्रधनुष उपन्यास एवं अगीत साहित्य दर्पण (-अगीत विधा का छंद-विधान ), ब्रज बांसुरी ( ब्रज भाषा काव्य संग्रह), कुछ शायरी की बात होजाए ( ग़ज़ल, नज़्म, कतए , रुबाई, शेर का संग्रह) my blogs-- 1.the world of my thoughts श्याम स्मृति... 2.drsbg.wordpres.com, 3.साहित्य श्याम 4.विजानाति-विजानाति-विज्ञान ५ हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान ६ अगीतायन ७ छिद्रान्वेषी

रविवार, 4 दिसंबर 2016

गुरुवासरीय काव्य गोष्ठी ०१दिसम्बर २०१६ गुरूवार...डा श्याम गुप्त...

                           ....कर्म की बाती,ज्ञान का घृत हो,प्रीति के दीप जलाओ... 


----प्रत्येक माह के प्रथम गुरूवार को आयोजित होने वाली गुरुवासरीय काव्य गोष्ठी ०१दिसम्बर २०१६ गुरूवार को डा श्याम गुप्त के आवास सुश्यानिदी, के-३४८ , आशियाना , लखनऊ पर आयोजित की गयी |

---------गोष्ठी का प्रारंभ डा श्याम गुप्त द्वारा हरिगीतिका छंद में की गयी माँ शारदे की वन्दना से हुआ ..
"हम हैं शरण में आपकी माँ ज्ञान के स्वर दीजिये |
सुख शान्ति का वातावरण जग में रहे वर दीजिये |
कवि हों सुहृद समर्थ सात्विक सौम्य स्वर परिपूर्ण हों |
साहित्य हो सुन्दर शिवं सत तथ्य शुचि सम्पूर्ण हों ||"


----अशोक विश्वकर्मा गुंजन ने कई रचनाएँ प्रस्तुत कीं| नारी के जीने के अधिकार की बात प्रस्तुत करते हुए कहा--
"जीने का अधिकार चाहती हूँ ,
पर स्वाभिमान नहीं छोड़ना चाहती |"

----कविवर अनिल किशोर शुक्ल निडर ने पर्यावरण के प्रति आव्हान करते हुए कई रचनाये प्रस्तुत की एवं कहा---
"चलो सभी मिल वृक्ष लगाएं ,
घुटन तपन सब दूर भगाएं |"

-----कवयित्री सुषमागुप्ता ने ..मन पापी नहीं माने...जो कुछ भी है मैंने सुनाया आदि गीतों से वातावरण को योग ध्यान मय करते हुए सुनाया --
" हे मन ! क्या अभिमान करे |
क्या लाया, क्या लेजायेगा,
किसका मान धरे ..|"

---श्री बिनोद कुमार सिन्हा ने राष्ट्रपर्व, विमुद्रीकरण आदि पर विभिन्न रचनाये प्रस्तुत करते हुए नोटबंदी व कालाधन पर व्यंग्य प्रस्तुत किया तथा काले धन को काले नाग से संबोधित करते हुए एक अगीत प्रस्तुत किया --
"बजी बीन संपेरे की
गूंजा स्वर ,
शहर गाँव गली गली
काले नाग निकल पड़े |"

---डा श्याम गुप्त ने कालजयी कविता एवं छंदों पर प्रस्तुत अतुकांत गीतों के साथ अपनी रचना 'श्याम मधुशाला' प्रस्तुत की जिसका काव्यांश प्रस्तुत है ---

" पीने वाला क्यों पीता है,
समझ न सकी स्वयं हाला |"
"मंदिर मस्जिद सच्चाई पर
चलने की हैं राह बताते |

और लड़खड़ाकर नाली की,
राह दिखाती मधुशाला ||"

-----श्री गिरीश कुमार मिश्र ने गज़लों के गुलदस्ते पेश करते हुए कहा--
"दरअसल अपना अमन खोते चले जाते हैं हम |
ख्वाहिशों के ढेर को ढोते चले जाते हैं हम | "

---साहित्यभूषण डा रंगनाथ मिश्र सत्य ने राधाकृष्ण का प्रेम की छंदीय रचना प्रस्तुत की --
"दुष्टों के दालान हेतु, जीवन शमन हेतु,
राधे राधे , श्याम श्याम, राधे श्याम कहिये |"

-----चाय सत्र में चर्चा पर हरिगीतिका छंद के विधान व छंद सौन्दर्य पर चर्चा की गयी |

-- श्याम मधुशाला की हरिवंश राय बच्चन की मधुशाला से तुलनात्मक तथ्य प्रस्तुत किये गए कि बच्चन की मधुशाला में दार्शनिक तथ्य समुचित है जबकि श्याम मधुशाला में वैज्ञानिक व उसके सामाजिक नकारात्मक प्रभावों पर अधिक जोर दिया गया है |

---डा श्याम गुप्त के वक्तव्य कि गीतों की अधिक लम्बाई एक दुर्गुण है, श्रोता सुनते सुनते यह भूल जाता है कि कहाँ से प्रारम्भ हुआ व किस पर समाप्त हुआ , पर चर्चा हुई कि इसमें गीत का उद्देश्य भी भ्रमित होने का अंदेशा रहता है | नीरज युग के बाद उनकी गीतों की परम्परा आगे न चलने का एक प्रमुख कारण यह भी है |

----श्रीमती सुषमागुप्ता के धन्यवाद ज्ञापन के पश्चात गोष्ठी अगले आयोजन तक स्थगित की गयी |