ब्लॉग आर्काइव

डा श्याम गुप्त का ब्लोग...

मेरी फ़ोटो
Lucknow, UP, India
एक चिकित्सक, शल्य-चिकित्सक जो हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान व उसकी संस्कृति-सभ्यता के पुनुरुत्थान व समुत्थान को समर्पित है व हिन्दी एवम हिन्दी साहित्य की शुद्धता, सरलता, जन-सम्प्रेषणीयता के साथ कविता को जन-जन के निकट व जन को कविता के निकट लाने को ध्येयबद्ध है क्योंकि साहित्य ही व्यक्ति, समाज, देश राष्ट्र को तथा मानवता को सही राह दिखाने में समर्थ है, आज विश्व के समस्त द्वन्द्वों का मूल कारण मनुष्य का साहित्य से दूर होजाना ही है.... मेरी दस पुस्तकें प्रकाशित हैं... काव्य-दूत,काव्य-मुक्तामृत,;काव्य-निर्झरिणी, सृष्टि ( on creation of earth, life and god),प्रेम-महाकाव्य ,on various forms of love as whole. शूर्पणखा काव्य उपन्यास, इन्द्रधनुष उपन्यास एवं अगीत साहित्य दर्पण (-अगीत विधा का छंद-विधान ), ब्रज बांसुरी ( ब्रज भाषा काव्य संग्रह), कुछ शायरी की बात होजाए ( ग़ज़ल, नज़्म, कतए , रुबाई, शेर का संग्रह) my blogs-- 1.the world of my thoughts श्याम स्मृति... 2.drsbg.wordpres.com, 3.साहित्य श्याम 4.विजानाति-विजानाति-विज्ञान ५ हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान ६ अगीतायन ७ छिद्रान्वेषी

बुधवार, 1 मार्च 2017

वर्त्तमान सन्दर्भ में साहित्यकारों के दायित्व-- (डा श्याम गुप्त )

                   ....कर्म की बाती,ज्ञान का घृत हो,प्रीति के दीप जलाओ...

             ४६ वें साहित्यकार दिवस, १ मार्च, २०१७ पर प्रस्तुत किया गया आलेख----

            वर्त्तमान सन्दर्भ में साहित्यकारों के दायित्व-- (डा श्याम गुप्त )


                  साहित्य व साहित्यकार सामाजिक प्रचेतना के वर्ग में अग्रगण्य स्थान रखते हैं| उनका मूल दायित्व है कि प्रत्येक प्रकार के अनुशासन, उदात्त भावों व चरित्रों का पुनः पुनः स्मरण एवं समाज में स्थित वर्त्तमान बुराइयों, नैतिक व चारित्रिक पतन आदि के दिग्दर्शन के साथ उनका समुचित समाधान भी प्रस्तुत करें | संस्कारहीनता एवं आचरण-भ्रष्टता के आज के युग में यह दायित्व और भी अधिक महत्वपूर्ण होजाता है |
यदि हम साहित्य क्या है एवं स्वयं साहित्य का क्या उद्देश्य है को रेखांकित करें तो साहित्यकार का उद्देश्य स्वयं ही स्पष्ट होजाता है | मूलतः किसी भी साहित्यिक रचना के निम्न अभिप्रायः होते हैं ----

१. आत्म-रंजनार्थ –साहित्यकार या कृतिकार स्वांत सुखाय बात कहता है और वही अन्य-रंजनार्थ व जन-रंजनार्थ भी होजाती है | यथा भजन, कीर्तन, वंदन, प्रेम गीत, अध्यात्म, प्रकृति वर्णन, सामान्य दैनिक वर्ण्य विषय, आदि | इसमें मूलतः ह्रदय के भावों का उत्स के साथ साथ बुद्धि विलास भी प्रधान रहता है |
२.जन जन रंजनार्थ ---सामयिक वर्णन, समाचार वर्णन, द्वंद्वों का काव्यीकरण, चारण कविता, --जिसमें विशिष्ट उद्देश्य के साथ साथ व्यक्तिगत लाभ का उद्देश्य भी निहित रहता है | इसमें बुद्धि कौशल प्रधान रहता है |
३.सोद्देश्य कविता ---
अ. लघु सूत्री उद्देश्य –में साहित्यकार अपने तत्कालीन आपद्धर्म, नागरिक-धर्म का निर्वाह करता है | वीररस, सुनामी, युद्धकालमें, जन समस्यायों को जन ( जनता), गण (शासक वर्ग ) व मन (व्यक्तित्वों, विशिष्ट-नागरिकों, विशिष्ट तबकों, प्रोफेशनल्स, युवाओं, छात्रों,, वालकों, वृद्धों, स्त्रियों आदि के सम्मुख रखना|
ब.दीर्घ सूत्रीय उद्देश्य—साहित्य, अर्थात व्यष्टि व समष्टि के व्यापक हित में –चरित्र, आचरण, व्यवहार, मानवता, नीति,पुराकाव्य व चरित्रों का युगानुरूप पुनः निरूपण | साहित्य व समाज के समय रूपी दर्पण पर जमी हुई धूल को हटाना एवं समस्या के साथ साथ समाधान का मार्ग दिखाना | यही साहित्य वस्तुतः वास्तविक, कालजयी एवं समाज व स्वयं साहित्य का दिशा निर्देशक होता है | इस प्रकार के साहित्य ह्रदय, बुद्धि, ज्ञान, व अनुभव से संपन्न होते हैं |

                  अतः साहित्य का वास्तविक अर्थ ‘सा हिताय य ‘...अर्थात जो समाज के व्यापक हित में है | यही साहित्यकार का मूल दायित्व है कि ह्रदय, बुद्धि, ज्ञान व अनुभव के समन्वय से व्यष्टि व समष्टि के व्यापक हितार्थ सोद्देश्य रचना के साथ साथ समाधान निरूपण से समाज व स्वयं साहित्य को गति व दिशा प्रदान करना|

                 संक्षिप्त में –सोद्देश्य साहित्य रचना, भाषा व स्वयं साहित्य की उन्नति, गति व दिशा प्रदान, अव्यवस्थाओं- व्यवस्थाओं पर इंगित तथा समाधान की दिशा | जो संस्थागत साहित्यकार हैं –यथा- पत्रकार, राज्यकर्मचारी संस्थान, हिन्दी संस्थान, जन संस्थान, प्रकाशक, स्वयं सेवी संस्थाएं, आदि को नियमित रूप से साहित्यिक रचनाओं का प्रकाशन व उचित प्रचार व सम्मान आदि की प्रक्रियाएं अपनानी चाहिए |

              स्वयं साहित्य व भाषा की उन्नति व अनुगामिता भी साहित्यकारों का एक महत्वपूर्ण दायित्व है | गुटबाजी, विधा-विद्वेष आदि त्यागकर विभिन्न विधाओं व नवीनताओं के स्वागत से साहित्य को गति मिलती है | यथा- वैदिक संस्कृत के साथ-साथ महर्षि वाल्मीकि ने लौकिक संस्कृत, गोस्वामी तुलसीदास ने भाखा-हिन्दी, निराला ने अतुकांत कविता व डा रंगनाथ मिश्र सत्य ने संक्षिप्तता को लेकर अगीत-कविता की स्थापना की, जिससे साहित्य की क्रमिक गतिशीलता बनी रही |

               आज साहित्य के प्रदूषण का एक विस्तृत फलक देखने में आरहा है | निकृष्ट, अश्लील, अंधविश्वास सृजक, शास्त्र, राष्ट्र, देश, धर्म के निंदक, इतिहास को झुठलाने वाले व भ्रश्ताकारक साहित्य व साहित्यकारों का निषेध भी साहित्यकारों का दायित्व है | कौन बुरा बने जैसी धारणा त्यागनी होगी|

                     अनैतिकता में लिप्त मानव ही समस्त बुराइयों की जड़ होता है | अतः सत्साहित्य रचना व व्यक्ति, समाज , संस्कृति, देश के आचरण सुधार सोद्देश्य साहित्य का मूल दायित्व होना चाहिए| साहित्यकार ही सदैव समाज का प्रचेता रहा है, तभी तो शास्त्रकार कहता है “ अग्ने नय सुपथा राये...(यजु.५/२६/.२० ) –हे अग्नि ( ईश्वर, तेजस्वी विद्वान्, विचार, साहित्यकार, समन्वयवादी ..) हमें सन्मार्ग की और लेचलें | यह विचार –क्रान्ति के वाहक की भूमिका है जो साहित्यकार को निभानी चाहिए |

                   अंत में साहित्य ही व्यक्ति, समाज, देश, राष्ट्र में कर्तव्यबोध, सदाचरण, नैतिकता, राष्ट्रीयता आदि उदात्त भावनाओं को जगाने में समर्थ है | निश्चय ही यह साहित्यकारों का दायित्व है और आज के भौतिकवादी युग की आवश्यकता |


----डा श्याम गुप्त
सुश्यानिदी, के-३४८, आशियाना, लखनऊ-२२६०१२, मो.९४१५१५६४६४