ब्लॉग आर्काइव

डा श्याम गुप्त का ब्लोग...

मेरी फ़ोटो
Lucknow, UP, India
एक चिकित्सक, शल्य-चिकित्सक जो हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान व उसकी संस्कृति-सभ्यता के पुनुरुत्थान व समुत्थान को समर्पित है व हिन्दी एवम हिन्दी साहित्य की शुद्धता, सरलता, जन-सम्प्रेषणीयता के साथ कविता को जन-जन के निकट व जन को कविता के निकट लाने को ध्येयबद्ध है क्योंकि साहित्य ही व्यक्ति, समाज, देश राष्ट्र को तथा मानवता को सही राह दिखाने में समर्थ है, आज विश्व के समस्त द्वन्द्वों का मूल कारण मनुष्य का साहित्य से दूर होजाना ही है.... मेरी दस पुस्तकें प्रकाशित हैं... काव्य-दूत,काव्य-मुक्तामृत,;काव्य-निर्झरिणी, सृष्टि ( on creation of earth, life and god),प्रेम-महाकाव्य ,on various forms of love as whole. शूर्पणखा काव्य उपन्यास, इन्द्रधनुष उपन्यास एवं अगीत साहित्य दर्पण (-अगीत विधा का छंद-विधान ), ब्रज बांसुरी ( ब्रज भाषा काव्य संग्रह), कुछ शायरी की बात होजाए ( ग़ज़ल, नज़्म, कतए , रुबाई, शेर का संग्रह) my blogs-- 1.the world of my thoughts श्याम स्मृति... 2.drsbg.wordpres.com, 3.साहित्य श्याम 4.विजानाति-विजानाति-विज्ञान ५ हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान ६ अगीतायन ७ छिद्रान्वेषी

शुक्रवार, 4 अगस्त 2017

राधिका सी-------डा श्याम गुप्त....

                                      ....कर्म की बाती,ज्ञान का घृत हो,प्रीति के दीप जलाओ...






राधिका सी सुर सिद्ध सुता नर नाग सुता कवि देव न भू पर |
चन्द करों मुख देखि निछावर केहरी कोटि लुटें कटिहू पर ||
काम कमान हू कों भृकुटीन पै मीन मृगीन हू कों दृग दू पर |
वारों री कन्चन कंज कली पिक वैनी के ओछे उरोजन ऊपर || ---महाकवि देव---

----नाग कन्याएं, देवांगनाएँ सिद्ध वधुएँ हमारे यहाँ साहित्य में अपने लोकोत्तर रूप लावण्य के लिए सर्वाधिक प्रसिद्ध हैं, उपमान स्वरुप हैं | चन्द्र-मुख, केहरि-कटि, भ्रकुटी-कमान, मीन-दृग, पिक–वैना आदि सभी श्रेष्ठतम उपमान हैं| यहाँ नायिका के अंगों के सौन्दर्य से सभी उपमानों का तिरस्कार होने से छंद में व्यतिरेक अलंकार है |



 

गुरुवासरीय काव्य -गोष्ठी --डा श्याम गुप्त ...

                                ....कर्म की बाती,ज्ञान का घृत हो,प्रीति के दीप जलाओ...

                              प्रत्येक माह के प्रथम गुरूवार को होने वाली गुरुवासरीय काव्य -गोष्ठी दिनांक ०३-०८ -२०१७ गुरूवार को ११ बजे मेरे आवास सुश्यानिदी, के-३४८ , आशियाना कोलोनी लखनऊ पर संपन्न हुई |